Saturday, December 30, 2017

आदत

पहली बार,
दो दिन तक
होश ही नहीं आया था .




दूसरी बार, 
एक रात सहेली के यहां बिता कर 
लौट आई थी मैं .




तीसरी बार , 
4 घंटे में ही 
हंसती खेलती
वापिस आ गई.


चौथी बार,
कहीं नहीं जाना पड़ा
बच्चों को पिक्चर दिखाने बाहर ले गयी.


उसके अगली बार
मैंंने न
गिनती बंद कर दी
और तुम्हेें कुछ
Freedom and personal  space
देने को
3 दिन के लिये घर से बाहर चली गई।


तुम्हारी बेवफाईओं की 
मुझे कैसी आदत सी हो चली है ।


First Edit: 25th May 2018

2 comments: