Thursday, September 22, 2011

कोई हाथ भी न मिलाएगा, जो गले मिलोगे तपाक से
ये नए मिजाज का शहर है, ज़रा फासलों से मिला करो॥

9 comments:

Himanshu Tandon said...

From what I could remember...

अभी राह में कई मोड़ हैं, कोई आएगा कोई जाएगा
तुम्हें जिसने दिल से भुला दिया, उसे भूलने की दुआ करो

यूँ ही बे-सबब ना फिर करो, कोई शाम घर पे रहा करो
वो ग़ज़ल की सच्ची किताब है, उसे चुपके-चुपके पढ़ा करो

मुझे इश्तिहार सी लगती हैं ये ज़माने भर की कहानियाँ
जो कहा नहीं वो सुना करो, जो सुना नहीं वो कहा करो

deep said...

very true... too good :)

Adee said...

:)

Indian Home Maker said...

Applies everywhere in all relationships I guess.

Loved the lines added by Himanshu too.

WWW.ChiCha.in said...

hii .. Nice Post ..

For More Entertainment .. Visit ..

WWW.ChiCha.in

WWW.ChiCha.in

Onkar said...

Very meaningful lines, excellently worded.

How do we know said...

Onkar sir: This is not mine. Its a very famout ghazal, te whole was posted by Himanshu in the comment above :-) Thank you!

kj said...


kj

Manish Raj said...

Kya baat hai..