Friday, June 15, 2012

bcs gomu liked it.. khala...

तुम चल पड़ी थी
समंदर में
डूब कर मरने के लिए
पर तुम नहीं जानती
समंदर का फर्श
थोड़ी देर तक धीरे धीरे ढलान में ढलता है
और फिर
एकदम
गिर जाता है
बहुत, बहुत गहरा
बहुत, बहुत अचानक.
 
बस, यहीं रुक जाओ।
इसी जगह।
अभी।
यहाँ से आगे
सिर्फ खला है।
 
 
 
tum chal padi thi
samandar mein
doob kar marne ke liye
par tum nahi jaanti
samandar ka farsh
thodi der tak dheere dheere dhalaan mein dhalta hai
aur phir
ekdum
gir jaata hai
bahut, bahut gehra
bahut, bahut achanak.

bas yahin ruk jao, isi jagah, abhi.
yahaan se aage
sirf khala hai

8 comments:

Himanshu Tandon said...

यहाँ से आगे
सिर्फ खला है....


यहीं रुको और
इंतज़ार करो
अगली उस
लहर का
सुपुर्द कर दो
अपना अहं,
अपना द्वेष
अपना सब दर्द उसे
और गर्क कर दो
वो सब जो
मैला हो चला था
डूब मरने दो
खुद को नहीं
उन सब पलों को
और लौटती लहर
संग पलट आओ
फिर किनारे पे
टूट बिखरने के लिए...

How do we know said...

hi HT: done. :-)

Manish Raj said...

Good one HT.

HDWK - Pl sms you number. Wish to talk.

Cheers
Manish

Gentle Breeze said...

HDWK very well put

HT :-)

read this somewhere

Le jaen ge gehrai me tum ko bhi baha kar
Darya k kinaron se mera zikar na karna

Wo shakhs mile to use har bat batana
Tum sirf isharon se mera zikar na karna

Onkar said...

Beautiful lines

How do we know said...

Guruji: done. :-)

hi GB: i loved the first sher.

Onkar sir: thank you.

Amrita said...

:)

How do we know said...

Hi Amu: :-)